अंतिम अंतरिम बजट में नौकरी पेशा से लेकर मजदूर तक को साधने की कोशिश, महिलाओं को मातृत्व अवकाश

सरकार ने नौकरी पेशा वर्ग के लिए आयकर की सीमा 2.5 लाख से बढ़ाकर 5 लाख कर दी है। मतलब इस वर्ग को अब 2.5 लाख की जगह अब टैक्स 5 लाख की सालाना आय पर भरने होगा। वहीं असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों के लिए भी पेंशन स्कीम शुरू करने की जानकारी केंद्रीय मंत्री गोयल ने दी।

मिनिमन इनकम गारंटी योजना में कांग्रेस इमदाद बांटेगी कहां से? आर्थिक घोषणाओं पर लगाम कसना जरूरी

कोई कहता था खाते में इतने रुपये आएंगे, तो हाल ही में किसी ने मिनिमम इनकम गारंटी का झुनझुना बजाया है। क्या अब यह जरूरी नहीं हो गया है कि राजनीतिक दलों पर आर्थिक घोषणाओं को करने से पहले उनके पास जरूरी फंड की उपलब्धता सुनिश्चित करने की बाध्यता भी लागू कर दी जाए?

इसलिए दर्ज हुई आधी आबादी की ताकत, ऑक्सफोर्ड बताएगा दुनिया को ‘नारी शक्ति’ के ये मायने

2018 में भारत सरकार के कुछ अहम कदमों से ‘नारी शक्ति’ शब्द ने सबसे ज्यादा ध्यान आकर्षित किया। इस कारण इस शब्द को शब्दकोश में शामिल करने की जानकारी दी गई। जिन खास मुद्दों के कारण नारी शक्ति शब्द चलन में आया उन पर एक नज़र-

झांसी-मुंबई में से किसका इतिहास पड़ेगा भारी, राष्ट्रभक्ति पर कौन लिखेगा नई हिस्ट्री

फिल्म के लेखक-निर्माता और राज्यसभा सदस्य संजय राउत और शिवसेना फिल्म ठाकरे को सफल बनाने में जी-जान से जुटी हो तो कंगना ब्रिगेड की मणिकर्णिका कमाई और सक्सेस के मामले में ठाकरे से पिछड़ भी सकती है।

बदनामी बना प्रचार का नया हथकंडा, कॉफी कलंक के बाद अब पॉलिटिक्स में गंदी बात करने की होड़

देश में अब मुद्दे कम पड़ गए हैं इसलिए महिलाओं के सम्मान को चोट पहुंचाई जा रही है। फिल्मों में ग्लैमर से वोट न मिलते तो राजनीतिक पार्टियां फिल्मी कलाकारों को क्यों अपना उम्मीदवार बनातीं।

आरक्षण की पतंग और कर्नाटक का सियासी पेंच, जानें यहां हफ्ते भर की हर खास बात

निजी शिक्षण संस्थानों में भी आरक्षण लागू करने की सरकार की मंशा है। जिसमें एससी-एसटी, ओबीसी और सामान्य वर्ग के पात्र हितग्राही को लाभ मिलेगा।

पढ़ना न भूलें पिछले सप्ताह की वो अहम घटनाएं जिनसे सीधा है आपका वास्ता

फिलहाल तो साबित हो रहा है कि नमो का यह मंत्र भी चुनाव में सामान्य वर्ग के आरक्षित ऊंट (वोटर) के बैठने की करवट को प्रभावित कर सकता है।

इनकी मर्जी से हिंदी में बोल पाती हैं हॉलीवुड एक्ट्रेस, ऐसे ही नहीं बढ़ रहा इनका रुतबा

हम बात करेंगे डबिंग करने वाली उन महिला शख्सियतों के बारे में जिनकी आवाज के बिना कई नामी विदेशी और भारतीय कलाकार चूं तक नहीं बोलते।

क्रिकेट में महिलाओं के लिए अवसर अपार, अंपायरिंग के हुनर से यूं बनीं दुनिया में खास

क्रिकेट में अंपायर का रोल भी महिलाएं बखूबी निभा रहीं हैं। ऐसी कई वुमैन अंपायर्स हैं जो तेजी से उभरी हैं और उनका नाम क्रिकेट इतिहास में भी दर्ज हो गया है।

पाकिस्तानी

लेडी रोल में खूब पसंद किए गए ये एक्टर, आपको किसकी एक्टिंग आई पसंद

हॉलीवुड से लेकर बॉलीवुड की फिल्मों में कई हीरोज़ ने महिला का किरदार निभाया है लेकिन ऐसे बहुत कम रोल हैं जिसमें महिलाओं की गरिमा का ख्याल रखा गया है।