क्रिकेट में महिलाओं के लिए अवसर अपार, अंपायरिंग के हुनर से यूं बनीं दुनिया में खास

People

क्रिकेट में रुचि रखने वाली महिलाओं के लिए क्रिकेटिंग वर्ल्ड में भी करियर ग्रोथ के असीम अवसर हैं। क्रिकेट के नियम-कायदों की पूरी जानकारी के साथ ही ताजा अपडेट और फिटनेस का ख्याल रखने में एक्सपर्ट महिलाएं क्रिकेट जगत में किस्मत आजमा सकती हैं। लेकिन याद रखें इसके लिए आईसीसी के तय इन कुछ मानकों को पूरा करना जरूरी होगा।

source- sports ndtv

फिटनेस एक्सपर्ट के साथ अंपायर का रोल

जी हां तमाम क्रिकेट बोर्ड्स ने अपने अनुबंधित खिलाड़ियों की फिटनेस से लेकर डाइट तक के लिए तमाम एक्सपर्ट्स को जोड़ना शुरू कर दिया है। क्रिकेट में अंपायर का रोल भी महिलाएं बखूबी  निभा रहीं हैं। ऐसी कई वुमैन अंपायर्स हैं जो तेजी से उभरी हैं और उनका नाम क्रिकेट इतिहास में भी दर्ज हो गया है।

इनका नाम लिया जाता है अदब से

source- icc

अंतर राष्ट्रीय क्रिकेट जगत में कैथी क्रॉस, क्लैअर पोलोसाक, सू रेडफर्न और जैक्लिन विलिअम्स के अलावा भारत की वृंदा राठी, शुभदा भोसले ने बतौर क्रिकेट अंपायर खासी सफलता पाई है। अंतर राष्ट्रीय क्रिकेट मैचों में अंपायरिंग कर कैथी ने जहां इतिहास रचा वहीं क्लैअर पोलोसाक मेल अंपायर्स के साथ पुरुष क्रिकेट मैचों में सफल अंपायरिंग कर चुकी हैं।

भारत में ये हैं उभरता नाम

source- facebook

भारत में फिटनेस एक्सपर्ट वृंदा राठी और शुभदा भोसले तेजी से उभरती युवा महिला अंपायर हैं। दोनों ही अंपायरिंग की परीक्षाओं को पास करने के बाद से खासा नाम कमा रहीं हैं। हालांकि इन महिला अंपायपर्स में तमाम अपायरों ने कभी न कभी राष्ट्रीय और अंतर राष्ट्रीय स्तर के क्रिकेट मैचों में भी देश का प्रतिनिधित्व किया है।


ये हैं नियम-कायदे

source – icc

आपको बता दें प्रोफेशनल क्रिकेट अंपायर बनने के लिए नियम बतौर स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी या फिर क्लब लेबल का क्रिकेट खेलने का प्रमाण देना होता है। क्रिकेट खेलने के अनुभव के साथ ही क्रिकेट से जुड़ी आचार-संहिता का परफेक्ट नॉलेज आपके लिए क्रिकेट अंपायर बनने का रास्ता आसान कर सकता है। सो ऑल द बेस्ट..

Comments

comments

Leave a Reply