झांसी-मुंबई में से किसका इतिहास पड़ेगा भारी, राष्ट्रभक्ति पर कौन लिखेगा नई हिस्ट्री

Entertainment, Politics

भारत में तीज-त्यौहार से लेकर राष्ट्रीय पर्व की तारीख काफी मायने रखती हैं। लोगों के फेस्टिव मूड के साथ ही इन दिनों पर नेशनल हॉलीडे होने से व्यापार-मनोरंजन के अपार अवसर भी मिलते हैं। ऐसे में इस साल 26 जनवरी पर बॉलीवुड की दो फिल्मों के बीच सीधी टक्कर है। दोनों ही फिल्में हिस्ट्री बेस्ड पीरियड ड्रामा हैं जिनमें इतिहास का फिल्मी अंदाज़ में ताना-बाना बुना गया है। 


रणनीति और राजनीति

सोर्स-एफबी

इन फिल्मों में एक झांसी की रानी लक्ष्मी बाई के राष्ट्र प्रेम और रणनीति पर बेस्ड है। दूसरी फिल्म राजनीति में मुंबई के नायक कहे जाने बाला साहब ठाकरे की जिंदगी और राजनीतिक संघर्ष पर बनाई गई है। दोनों ही फिल्में निर्माण से लेकर रिलीज़ होने तक सुर्खियों में रहीं।

मणिकर्णिका अब डायरेक्टर के तौर पर भी शुमार कंगना रनौत के कारण चर्चा में है। फिल्म ठाकरे के चर्चा में रहने का कारण फिल्म का कथानक, डायरेक्टर और किरदार हैं। हालांकि सारी स्थिति पक्ष में होने के बावजूद दोनों ही फिल्मों को मजबूत ओपनिंग नहीं मिल सकी। कलेक्शन और प्रजेंटेशन के मामले में उरी फिल्म फिलहाल दोनों पर भारी पड़ रही है।


कहां चूकीं कंगना?

‘द क्वीन ऑफ झांसी’ बनने के दौरान कलाकारों ने बीच में ही फिल्म को छोड़ दिया। अब रिलीज़ के बाद ‘मणिकर्ण‍िका’ झांसी की रानी कम बल्कि कंगना रणौत की फिल्म ज्यादा दिख रही है। बॉलीवुड की देश भक्ति वाली फिल्मों में राष्ट्र प्रेम आधारित एक न एक ऐसा हिट गीत जरूर होता है, जो आसानी से लोगों की ज़ुबान पर चढ़ जाए। कंगना की फिल्म इस मामले में असफल रही। हालांकि कंगना का एक्शन लोगों को जरूर पसंद आ रहा है लेकिन फिल्म देखने के बाद स्टंट्स लोगों को भला कितने देर याद रह पाएंगे।


इसलिए पिछड़ सकती हैं कंगना!

सोर्स- न्यूज़18

फिल्म ठाकरे को सधी शुरुआत मिली है। समीक्षकों के मुताबिक ठाकरे के डायलॉग्स और आगामी लोकसभा चुनाव के कारण बनते-बिगड़ते राजनीतिक समीकरण फिल्म के लिए अच्छी कमाई के संकेत दे रहे हैं। अब जब फिल्म के लेखक-निर्माता और राज्यसभा सदस्य संजय राउत से लेकर पूरी शिवसेना फिल्म ठाकरे को सफल बनाने में जी-जान से जुटी हो तो कंगना ब्रिगेड की मणिकर्णिका कमाई और सक्सेस के मामले में ठाकरे से पिछड़ भी सकती है। फिलहाल शुरुआती रुझान भी यही आया है।

Comments

comments

Leave a Reply