मुंबई ओवरब्रिज हादसे का कौन है गुनहगार?

Crime, People

एक और हादसे का शिकार हो गई है मुंबई…मुंबई के सीएसटी स्टेशन के पास फुट ओवर ब्रिज गिर गया और कम से कम 5 लोगों की मौत हो गई, 30 से ज्यादा लोग जख्मी हैं. इस हादसे के लिए बीएमसी को जिम्‍मेदार ठहराया जा रहा है, जिसके जिम्‍मे इस पुल के देख-रेख की जिम्‍मेदारी थी. इसी क्षेत्र से कांग्रेस के सांसद रहे मिलिंद देवड़ा ने मौके पर पहुंचकर पत्रकारों को बताया कि छह महीने पहले ही बीएमसी ने इस पुल का ऑडिट करवाया था, और इसे खतरनाक नहीं माना था. बीएमसी की इसी लापरवाही का अंजाम गुरुवार को मुंबईकरों को भुगतना पड़ा है.

फोटो-सोशल मीडिया

पहले भी हो चुकी हैं ऐसी घटनाएं

Original

जिस वक़्त हादसा हुआ लोगों के दफ्तर छूटने का समय होने के चलते फुट ओवरब्रिज पर लोगों की एक बड़ी संख्या मौजूद थी. इसे कोई पहली घटना समझने की भूल मत कीजिएगा. ऐसी ही घटना पिछले साल भी हुई थी, जहां अंधेरी के जीके गोखले रोड ओवर ब्रिज ढह जाने से दो लोगों की मौत हो गई थी, औऱ उससे पहले हम सितम्बर 2017 में देख चुके हैं जब मुंबई में एल्फिंस्टन रोड और परेल उपनगरीय रेलवे स्टेशनों को जोड़ने वाले फुटओवर ब्रिज पर भगदड़ मची थी. तब 22 लोगों की मौत हुई थी और कई लोग जख्मी हुए थे.

फोटो-ट्विटर

साल दर साल क्यों हो रही है ऐसी घटनाएं?

साल दर साल लगातार हो रही इन घटनाओं के लिए आखिर जिम्मेदार कौन है? सीएसटी रेलवे स्टेशन की घटना के बाद ये सवाल जब रेलवे विभाग से पूछ गया तो जवाब में उन्होंने आरोप प्रत्यारोप का खेल शुरू कर दिया. हादसे पर रेलवे का जवाब था कि ये ओवरब्रिज बीएमसी का है, हम पीड़ितों के लिए अपना सहयोग कर रहे हैं. रेलवे के डॉक्टर और कर्मी राहत और बचाव कार्यों में बीएमसी के साथ सहयोग कर रहे हैं. लेकिन हादसे के बाद हुए इस सहयोग से पीड़ितों को क्या मिलेगा, क्या जिनकी मौत हुई है, वो फिर से जिंदा हो जाएंगे?

फोटो-सोशल मीडिया

या फिर जिनको चोट पहुंची है, वो भी बिना गलती के, वो दर्द दूर हो जाएगा. हैरत की बात तो ये है कि अब नेता इसपर राजनीति भी करेंगे और वोट भी मांगेगे, लेकिन हम आप शायद कुछ नहीं कर सकते, क्योंकि हम ऐसे दुष्चक्र में फंसे हैं, जहां गलतियां बार-बार होती है, दोषी नहीं ढूंढा जा पाता है.

Comments

comments

Leave a Reply